AI बना शातिरों का हथियार तो AI के जरिए ही लगाम लगाना संभव : Ankur Chandrakant (साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ)

AI बना शातिरों का हथियार तो AI के जरिए ही लगाम लगाना संभव : Ankur Chandrakant (साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ)

Cyber Crime : साइबर अपराधियों द्वारा कृत्रिम बुद्धिमत्ता (AI) का उपयोग बढ़ रहा है। इस बात से चिंतित साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ Ankur Chandrakant (अंकुर चंद्रकांत) का कहना है कि AI का उपयोग साइबर अपराधों को रोकने और उनका पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है।

AI का उपयोग साइबर अपराधों को रोकने और उनका पता लगाने के लिए भी किया जा सकता है

Ankur Chandrakant ने कहा कि AI का उपयोग सायबर हमलों का पता लगाने और उनसे निपटने के लिए किया जा सकता है। AI-आधारित सॉफ़्टवेयर सायबर हमलों की पहचान करने के लिए पैटर्न और प्रवृत्तियों की पहचान कर सकता है। इसके अलावा, AI का उपयोग सायबर हमलों से बचाने के लिए सुरक्षा उपाय करने के लिए भी किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि AI का उपयोग सायबर सुरक्षा जागरूकता बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है। AI-आधारित प्रशिक्षण और शिक्षा कार्यक्रम लोगों को सायबर हमलों से खुद को बचाने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान प्रदान कर सकते हैं।

Cyber Crime

AI का उपयोग सायबर सुरक्षा जागरूकता बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है : Ankur Chandrakant

Ankur Chandrakant ने कहा कि सायबर सुरक्षा को बढ़ाने के लिए AI एक शक्तिशाली उपकरण है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि AI को जिम्मेदारी से उपयोग किया जाए। AI का उपयोग सायबर हमलों को रोकने और उनका पता लगाने के लिए किया जाना चाहिए, न कि उन्हें करने के लिए।

सरकारों और निजी क्षेत्र को AI का उपयोग सायबर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए

उन्होंने कहा कि सरकारों और निजी क्षेत्र को AI का उपयोग सायबर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए संयुक्त रूप से काम करना चाहिए। AI-आधारित समाधानों को विकसित करने और तैनात करने के लिए निवेश किया जाना चाहिए। इसके अलावा, सायबर सुरक्षा जागरूकता बढ़ाने के लिए अभियान चलाए जाने चाहिए।

Ankur Chandrakant ने कहा कि AI का उपयोग सायबर अपराधों को रोकने और उनका पता लगाने के लिए निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है:

  • सायबर हमलों का पता लगाना: AI का उपयोग सायबर हमलों की पहचान करने के लिए पैटर्न और प्रवृत्तियों की पहचान करने के लिए किया जा सकता है। AI-आधारित सॉफ़्टवेयर सायबर हमलों की पहचान करने के लिए फ़ाइलों और ट्रैफ़िक को स्कैन कर सकता है।
  • सायबर हमलों से बचाव करना: AI का उपयोग सायबर हमलों से बचाने के लिए सुरक्षा उपाय करने के लिए किया जा सकता है। AI-आधारित सॉफ़्टवेयर खतरों की पहचान कर सकता है और उन्हें रोकने के लिए सुरक्षा उपाय कर सकता है।
  • सायबर सुरक्षा जागरूकता बढ़ाना: AI का उपयोग सायबर सुरक्षा जागरूकता बढ़ाने के लिए किया जा सकता है। AI-आधारित प्रशिक्षण और शिक्षा कार्यक्रम लोगों को सायबर हमलों से खुद को बचाने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान प्रदान कर सकते हैं।
Ankur Chandrakant

Ankur Chandrakant ने कहा कि AI का उपयोग सायबर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि AI को जिम्मेदारी से उपयोग किया जाए। AI का उपयोग सायबर हमलों को रोकने और उनका पता लगाने के लिए किया जाना चाहिए, न कि उन्हें करने के लिए।

साइबर अपराध एक गंभीर समस्या है जो लोगों की निजी और वित्तीय जानकारी को खतरे में डालती है। AI का उपयोग इस समस्या को हल करने में मदद कर सकता है, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि AI को जिम्मेदारी से उपयोग किया जाए।

लीला चौबे

Read also x